ना जाने कब इस सुबह की रात हो जाय
मिलते रहा करो यूँ ही ,जाने कब
समय की चाल रूक जाये