कौन ठहरा है 
वक़्त के सैलाब के आगे 
जब भी कोई दौर गुजरा 
एक खण्डर की
पहचान दे गया