मैंने स्वयं को सुशील, साधारण और विकास के लिए प्रयत्नशील बने रहने का भरपूर प्रयास किया है। परमशक्ति परमात्मा में विश्वास रखते हुए अपने कार्यों की आहूति विज्ञान के हवन कुण्ड में दी है। मैंने स्वयं से अलग होकर सुशील को  एक अच्छे सामाजिक व्यक्ति, शोधकर्ता और सामान्य लेखक के गुणों के लिए मजबूत किया है।   मैं हूँ सामाजिक जागरूकता और प्रसन्नता के लिए प्रयासरत ।