जंगल उजाड़े
पशु-पक्षी मारे
अब धरोहर -विरासत को
मिटाना है ।
आधुनिकीकरण की राह में
पर्यावरण उजड़ा
अन्न उपजाऊ भूमि पर
इमारतो का निर्माण
सड़को के नाम पर
लाखो-करोड़ों पैड काटे
यहाँ तक कि सभ्य कहने वाले
व्यक्ति ने
पक्षियों के हैं घर उजाड़े
काश ! हे मनुष्य !
ये सब सत्य न होता,
तो  पेड़ो के झुरमुट की तलाश में
आज , नायडू की कोकिला को,
प्रवासी न होना होता
प्रवासी न होना होता  …………………… .सुशील


*********************************************
*********************************************
Forest ruined
animals – birds killed
now heritage and culture have to be wipe completely.
 
In the race of modernization
environment shattered
fertile ground used for 
construction of buildings
on the name of constructions of road
millions – millions trees cut-down
 
Even called decent,
men of the earth
in this universe
but he ruined houses of birds also.

Alas! Oh Man!
all this would be not true;
so, looking clump of trees
today, the Nightingale of Naidu,
would not have to be migrant
 
would not have to be migrant
                                                                                                sushil