दर्द हवा में  और ,
घायल जिस्म जमीं पे पड़े हैं ,
कोई पत्थर,
शायद किसी मंदिर -मस्जिद 
को छुआ है । 
आज की शाम,
दर्द -ऐ -हवा , रुक-रुक कर ,
बह रही है ,लगता है , 
राख में दबे शोलो को ,
पनाह दे रही है । 
तुम्हारा -हमारा घर भी ,
अगले मोड़ पर है ,
जिधर ये भीड़ जा रही है । 
रहने दो, छोड़ भी दो ,
अब खेलना वतन से ,
बहुत हो चुका,
खून के आँसू , ये रोना-रुलाना ,
चलो आज शाम 
बूढ़ी आँखों को रोशनी दे- दे,
उजाला मयस्सर नहीं घर जिनके ,
उस घर में एक चिराग जला दे ,
और इस शहर में दिनों से…….. 
चूल्हे नहीं जले हैं ……
धुवाँ उठा भी कहीं तो, 
जिस्म जले हैं 
जला के घर , 
हाथ सेकने वालो ,
यहाँ सुलग रही है छातियाँ,  
अपनों की  ही ,
लगाई हुई आग से ।
……… सुशील
Pain in the air and ,
injured body lying on the ground,
maybe a stone ,
is touched to the
temple or mosque

This evening,
air is flowing intermittently,
with full of pain
it seems that
giving shelter to
buried coal in the ashes ,

Me and your houses,
are on the next turn,
whither the crowd is going

Let it be, let it drop,
playing with the country,
this is enough, really enough,
tears of blood in eyes,
they cry and cry
till the end.

Friends, come on this evening
let give lights in the old eyes
we know light is not available in the house,
please give a burning lamp in the houses.

And in this city since the days ……..
no one burn the stove ……
If choosing to smoke anywhere ;
the body burns there,

first burn the houses of people,
and now showing a grief to public,
Here’s smoldering Bosoms,
because our loved ones have,
employed the fire.

Sushil ………